झारखंड में राज्यस्तरीय पीसीवी टीकाकरण अभियान की शुरूआत

झारखंड में राज्यस्तरीय पीसीवी टीकाकरण अभियान की शुरूआत
Posted By: Khabar Mantra Online
17-Jun-2021
खबर मन्त्र ब्यूरो रांची। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने गुरुवार को झारखंड में पहली बार निमोनिया के बचाव को पीसीवी टीकाकरण अभियान की शुरूआत की। इस अवसर पर ढाई साल की बच्ची अनन्या को पहला टीका लगाया गया। बच्ची के साथ उसकी मां नेहा उपस्थित थीं। अनन्या को टीका सहिया दीदी रंजना चौधरी ने लगाया। इस अवसर पर आायोजित कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि कोरोना के तीसरी लहर से बचाव के लिए राज्य सरकार पूरी तरह से तैयार है। राज्य सरकार समिति संसाधनों में भी बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था का लाभ झारखंड की जनता को देने का प्रयास कर रही हैं। राज्य की जनता का हक है कि उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सेवा का लाभ मिले। इसके लिए सरकार भी संकल्पित है कि सुदूर ग्रामीण इलाकों के अंतिम परिवार के अंतिम व्यक्ति तक स्वास्थ्य लाभ पहुंचे। मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि राज्य को स्वास्थ्य नीति के आलोक में कुछ कार्यक्रमों का स्वास्थ्य सूचकांक राष्ट्रीय औसत से आगे है तथा कुछ स्वास्थ्य सूचकांकों को राष्ट्रीय औसत के समकक्ष लाने का प्रयास जारी है। राज्य में घटा है शिशु मत्यु दर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम समन्वय स्थापित करते हुए बेहतर कार्य कर रही है। यही कारण है कि राज्य में शिशु मृत्यु दर प्रति हजार 34 से घटकर 29 हो गया है जबकि राष्ट्रीय औसत 33 हैं। यदि मातृ मृत्यु दर की बात करें तो राज्य में प्रतिलाख 165 से घटकर 76 हो गया है जबकि राष्ट्रीय औसत 122 हैं। राज्य में सरकारी अस्पताल में सुरक्षित संस्थागत प्रसव दर 61.90 फीसदी था जो बढ़कर 83 फीसदी हो गया हैं। यदि प्रजनन दर की बात करें तो राज्य का प्रजनन दर 2.8 फीसदी से घटकर 2.5 फीसदी हो गया है, जबकि राष्ट्रीय औसत दर 2.2 फीसदी है। उन्होंने बताया कि झारखंड सरकार राज्य में बेटा-बेटी को एक समान दर्जा और अधिकार देने का विचार रखती है। इसी का परिणाम है कि जन्मलिंग अनुपात प्रतिहजार 910 से बढ़कर 916 हुआ है, जबकि राष्ट्रीय औसत 896 है। राज्य में करीब 8.50 लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य मंत्री ने बताया कि राज्य भर में आज से न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन पीसीवी का शुभारंभ हुआ है। उन्होंने कहा कि निमोनिया 5 साल से कम आयु के बच्चों में रोग और मृत्यु का मुख्य कारण है। इससे 15 फीसदी बच्चों की मृत्यु हो जाती है। उन्होंने बताया कि इस टीकाकरण अभियान के बाद ऐसे मामलों में भारी कमी आएगी। उन्होंने बताया कि यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार प्रतिवर्ष 40 हजार बच्चों की निमोनिया से मौत हो जाती हैं। उन्होंने बताया कि पीसीवी अब से पूरे राज्य में 1 साल से कम आयु के बच्चों को 6 हफ्ते, 14 हफ्ते और 9 महीने पूरा होने पर दिया जाएगा। यह टीका बहुत महंगा है। इसलिए सरकार ने इसको आम जनों तक नि:शुल्क पहुंचाने के लिए विशेष टीकाकरण अभियान की शुरूआत किया है, ताकि हर बच्चों को ये टीका मिल सके। राज्य में करीब 8.50 लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसमें सभी आंगनबाडी कर्मियों और सहिया दीदियों के अलावे अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। इस अवसर पर अवर अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अरुण कुमार सिंह, एनआारएचएम के प्रबंध निदेशक रविशंकर शुक्ला, मार्शल आइन्द, सिविल सर्जन रांची डॉ विनोद कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।